STF 2015-16 Chikkballapura

From Karnataka Open Educational Resources
Jump to: navigation, search

Science

Batch 1

Agenda

If district has prepared new agenda then it can be shared here

See us at the Workshop

Workshop short report

Upload workshop short report here (in ODT format), or type it in day wise here

Batch 2

Agenda

If district has prepared new agenda then it can be shared here

See us at the Workshop

Workshop short report

Science 2nd Batch Report

Batch 3

Agenda

If district has prepared new agenda then it can be shared here

See us at the Workshop

Workshop short report

Upload workshop short report here (in ODT format), or type it in day wise here

Add more batches, by simply copy pasting Batch 3 information and renaming it as Batch 4

Hindi

Batch 1

Agenda

If district has prepared new agenda then it can be shared here

See us at the Workshop


Workshop short report

1st Day
हिंदी शिक्षको का मंच २०१५
संसाधक कार्यशाला, दि/23/11/2015 से दि/27/11/2015
स्थान: डयट् चिक्कबल्लापुर जिला, चिक्कबल्लापुर
दि/२३/११/२०१५
पहले दिन का रपट वाचन
प्रस्तावना: आज मानव के आधुनिक जीवन शैली में विज्ञान का बहुत महत्वपूर्ण् स्थान है| यह जीवन कंप्यूटर और् अंतर्जाल् के बिना शून्य ही लगता है| उसी तरह शिक्षा के क्षेत्र में नवीनता परिणामात्मकता और् छात्रों के सीखने की प्रक्रिया में क्रांतिकारक परिवर्तन लाने के लिए तकनीक का उपयोग करना अनिवार्य है |

कार्यशाला का उद्गघाटन :
चिक्कबल्लापुर जिला शिक्षा व प्रशिक्षण संस्था (डयट्) की ओर से आयोजित हिंदी शिक्षको का मंच् के संसाधक कार्यशाला का उदघाटन डयट् के प्रवक्ता श्री हरीश जी, स्थानीय सर्कारी प्रौढशाला के मुख्य् शिक्षिका श्रीमती उमाश्री जंतकलजी संसाधक श्री राजकुमार और् संसाधिका श्रीमती पद्माजी तथा जिला के विविध् तालुको के हिंदी शिक्ष् बंधुओं के उपस्थिती मे अर्थपूर्ण रूप हुआ | पहले दिन का क्रिया कलाप प्रस्तुत शैक्षणिक व्यवस्था के अनुसार छात्रों की सीखाने की प्रक्रिया में तकनीक का उपयोग अनिवार्य तथा अत्यंत आवश्य़क है| इसके अनुरूप हर एक शिक्षक अपने विषय बोधन में तकनीक की सहायता से अपने बोधन को परिपूर्ण कर सकते है| इसके संबंध में कंप्य़टर शिक्षण के मूल परिकल्पनाओंं को सरल व स्पष्ट शैली में प्रशिक्षणार्थी शिक्षकों को संसाधक श्री राजकुमारजी ने प्रथम आवधि मे समझाया| उपर्युक्त् अंशो के बारे अंतर्जाल को उपयोग करने में संसाधिका श्रीमती पद्माजी ने koer का सविस्तार रूप पर प्रकाश डालने के द्वारा अपनी अवधी को परिपूर्ण् किए| भोजन विराम के बाद सभी प्रशिक्षणार्थियों ने खुद अपने कंप्यूटर के द्वारा विविध ickons के बारे में स्पष्ट जानकारी प्राप्त करने के बाद श्री राजकुमारजी के निर्देशानुसार अंतर्जाल को खोलने का काम खुशी से किए तथा विविध website का परिचय प्रायोगिक रूप में पा कर हिंदी STF कार्यशाला को सार्थक बनाए रखने में सफल हुए| इसके उपरांत सभी प्रशिक्षणार्थि हिंदी बोधक समुदाय ने अंतर्जाल में अपना E-mail ID create करने के द्वारा प्रथम दिन की कार्यशाला को सुसूत्र रूप से पूर्ण किए | धन्यवाद सहित

2nd Day
हिंदी शिक्षकों का मंच
स्थान:डयट , चिक्कबल्लपुर
दिनांक: 24-11-2015
दूसरे दिन की कार्यशाला में पहले दिन की रपट वाचन श्री राघवेंद्र्जी ने किया| म्ंच पर उपस्थित डयट के प्रवक्ताएँ श्रीमान हरीश जी और राधाक्रुष्ण जी ने पहले दिन की कार्याशाला के क्रियाकलापों का भरपूर प्रश्ंसा की| श्रीमान जनार्धनजी ने "Tess India”कार्यक्रम के बारे मे बहुत विस्तार रूप से विवरण दिये| इसके उपरांत् राज़कुमारजी ने पाठ बॊधन के समय मे गणकयंत्र के द्वारा अंतर्जाल का उपयॊग करते हुए चित्रॊं का संग्रहण् करना , प्रस्तुतीकरण करना और् हिंदी typing कोOHPकी सहायता से प्रायॊगिक रूप से सिख़वाया| इस STFकार्यशाला को यस्वी बनाने मे गणक यंत्रके द्वारा हर एक शिक्ष्क अपने छात्रॊं कॊ पढाना अनिवार्य है| तत्संबंध PPT प्रस्तुतीकरण के बारे मे जानकारी विविध टॊलियॊं कॊ क्रमश: एक गद्य और् एक पद्य की बँटवारा किया गया| तबी से सबी प्रशिक्ष्णार्थि अपने गद्य और् पद्य की प्रस्तुतीकरण की तैयारी मे व्य्स्थ् थे| इतने मे दूसरी दिन की कार्यशाला का समय स्माप्त हुआ |


3rd Day
हिंदी शिक्षकों का मंच-२०१५ संसाधक कार्यशाला दिनांक 25-11-2015
स्थान ; डयट् चिक्कबल्लापुर
तीसरे दिन का रपट वाच
तीसरे दिन के इस कार्यशाला में S.T.F. के अंतर्गत गणकयंत्र द्वारा अंतर्जाल् से संबन्धित कुछ अंश यहाँ प्रस्तुत हैं| इस कार्यशाला में भाग लेना ही बडी खुशी की बात है| ममता जी और गंगरत्नम्माजी सेन दूसरे दिन का रपटवाचन हुआ | राजकुमार जी ने जो टोलिया बनाकर गध्य और् पध्य से संब्ंधित चित्र संग्रहण करना, हिंदी भाषा में लिखना, रंग लगाना ,लिखे हुए भाग को जहांँ चाहिए वहाँ कट करके पेस्ट करना आदि के बरे में समझाया | ज़ी.मैल क्रिएट करना सिखवाया | चाय पीकर जी.मेल भेजने का कार्य श्री रजकुमार द्वारा स्क्रीन पर सुचारु रूप पद्गाया गया |अपने छात्रों को कक्षा में पढाते समय हमें अनेक तंत्रांश का ज्ञान अनिवार्य है| इस कार्यशाला में श्री राजकुमारजी ने g.mail भेजने में compose आदि के उपयोग पर प्रकाश डालते हुए सुजाव दिया है कि शिक्षक को विवेकयुक्त हो कर g.mailका उपयोग करना चाहिए | हमें भी यह मानना पडेगा कि जीवन के हर क्षेत्र में अंतर्जाल का बहुत बडा योगदान है| गुणात्मक शिक्षण के लिए VIDEOS,OER -मुक्तशैक्षणिक संपन्मूल, LSRW के विकास के लिए जरुरी है | डयट के प्रवक्ता श्रीमती शोभा जी ने TESSINDIA , MOOC से संबधित ६ सप्ताह के कोर्स् के बारे में जानकारी दी और सभी प्रशिक्षणार्थियों को इसमें रजिस्टर भी करवाया| इस तरह तीसरे दिन की कार्यशाला अनेक अनजाने अंशों को सिखाने और् सीखने के द्वारा समाप्त हुआ|

4th Day
चौथे दिन का रपट वाचन
दिनांक/26/11/2015
आदरणीय संसादक व्यक्ति राजकुमार सरजी,जनार्धन सरजी , पद्मावति मेडमजी और यहाँ पर उपस्थित हिन्दी भाषा के सभी शिक्षक मित्रगण को मेरा शुभोदय | आज मुझे आपके सामने हमारे इस कार्यागार के दिन के रपट वाचन प्रस्तुत करने का अवसर मिला है | रपट वाचन इस प्रकार है------ हिन्दी विषय से संबधित हिन्दी भाषा के शिक्षक मंच कार्यक्रम प्रशिक्षण का इस दिन बहुत ही क्रियात्मक , आकर्षक और उपयोगात्मक थी | प्रशिक्षण के समयानुसार हम सब ५;३० बजे डाइट चिक्कबल्लापुर मे गणकयंत्र कमरे मे ईक्कट्टा हो गये| पहले हम पिछले दिन के योजीता पाठ के लिए उचित चित्रण को गूगल की सहायता से डौनलॊड करके पाठ को चित्रों के साथ आकर्षणिय भोधन करने के लिए तैयार किया उसके बाद राज्कुमर सर् जी ने उबुंटु में गूगल डोट् काम के द्वारा हिंदी विषय पर ज्ञान को बढाने के लिए, पाठ के संबधित अधिक जानकरी प्राप्त करने के लिए और छात्रॊं को हिंदी विषय पर आकर्षित करने के लिए किस तरह हिंदी के छॊटे-छॊटे कहानियों को ढूंढना और उस कहानी को किस तरह बचना और पाठ में जोडना इसके बारे में जानकारी दिया इस कार्य को पूर्ण करने के बाद सर् जी ने इंटरनेट में किस तरह भाषा को अनुवाद करना दुनिया के अधिक सारी भाषाओं को हमारी ईच्छा के अनुसार उसका अर्थ समझने के लिए हमारी मात्र भाषा में किस तरह अनुवाद करना या अन्य भाषा के कहानी या लेखन को किस तरह हम हिंदी भाषा में अनुवाद कर सकतें हैं इसके बारे में जानकारी दिया | इसके बाद गरम-गरम चाय आयी इसको पीकर सब इकट्टे हुए बाद में सर् जी ने गूगल के एक और उपयोग ड्रैव के बारे में जानकारी दिया उसके द्वारा हमारी अत्यावश्यक या उपयोगित चित्रण को पंद्रह जीबी तक संग्रह कर सकते हैं | और दुनिया के किसी कोने में भी जाकर केवल गूगल के सहायता से अवश्य चित्रण को डौनलोड करके उसको छपा भी सकते है |
इसके बाद युटुब के बारे मे जानकारी दिया बाद में गूगल म्याप के द्वारा किस तरह हमारी इच्छित स्थान का विवरण पा सकते हैं इसके बारे में बताया और सर् जी के मार्गदर्शन में हम सब हमारे शहर गांव का विवरण ढूंढने मे खुशी से मग्न हो गया और आनंद भी हो गया इसके बाद २ बजे से ३ बजे तक भोजन का विराम था सब ने पलाव और दही भात को खाये और फीर इकट्टे हो गये | बाद में जनार्धन सर् जी और राजकुमार सर् जी दोनो मिलकर अति उपयुक्त और छात्रो को पाठ की ओर आकर्षित करने के लिए गूगल के द्वारा डौनलोड किये गये विडियो को किस तरह हमारी ध्वनि शैली में परिवर्तन करना इसके बारे में जानकारी दिया और पूण्यकोटि विडियो को जनार्धन सर् जी की ध्वनि में परिवर्तन करके दिखया और हमे भी करने के लिए कहा | बाद में सरल और आकर्षक रूप में किस तरह स्लैड्स् के द्वारा बोधन कर सकते है? उनकी तैयारी, कक्षा वातावरण में उनका उपयोग के बारे में समझाए| इतने कार्यक्रमो की माला में निरत रहते हुए समय ५;३० बजे हो गया कि हम सब अपने अपने क्ंप्यूटरो shut down करके घर की ओर चल पडे| इस रपट की तैयार करने का सौभाग्य मुझे मिला था जो मुझे ठीक लगा उसे मैने किया इसकी गलतियों के लिए मै क्षमा माँगती हुए धन्य्वाद सहित
5th Day
हिंदी एस्.टी.एफ्. कार्यशाला २०१५
पाँचवे दिन का रपट वाचन
दिनांक: 27/11/2015
स्थान: ड्यट्, चिक्कबल्लापर्

हिंदी एस्.टि.एफ. कार्यशाला के पाँचवा दिन की कार्यशाला के क्रिया-कलाप ऎसे थे:-_उपर्युक्त् दिन सभी प्रशिक्षणार्थि शिक्षक अत्यंत उत्साह से कार्यशाला में हाजिर होते ही पूर्व योजना के अनुसार अपने-अपने ppt presenation की तैयारी में मग्न थे | इतने में संसाधक श्री राजकुमारजी ने ppt presenation में slides का उपयोग, कैसे करना है? अर्थात slide selection, colouring, inserting pictures, background, animation और Hyperlink आदि अंशों पर प्रायोगिक रूप में सविस्तार व स्पष्ट् रूप में जानकारी दी कि सभी शिक्षक अपने-अपने कक्षा बोधन में सफल रूप में तकनीक का सदुपयोग करें | प्रशिक्षणार्थियों को उनके टोलियों के अनुरुप LIBRE OFFICE PPT IMPRESS से पाठ प्रस्तुतीरण करवाया | T-Break के बाद पुन: सभी शिक्षक अपनी प्रस्तुतीकरण की तैयारी में पूर्णत: जिज्ञासा तथा श्र्द्धा से भाग लिए थे| इसके बाद भी सभी प्रशिक्षाणार्थि गण अपने अपने कंप्यूटरों पर अंतर्जाल का उपयोग अपने ppt presentation में क्रोढीकरण करने में क्रियाशील थे| PARTICIPANT FEED BACK FORM को अंतर्जाल के द्वारा भर्ति कराया गया|

इस S.T.F. हिंदी कार्यशाला के द्वारा सभी हिंदी शिक्षक अपने हिंदी ज्ञान के अलावा आज के नव-नवीन युग में पग-पग पर अनिवार्य रूप में उपयुक्त् कप्यूटर ज्ञान और आधुनिक शैक्षणिक पद्द्त्ती में दृक-श्रवणोपकरणो का उपयोग परिणामात्मक रूप में कक्षा वातवरण में उपयोग करना सीख लिए है यह अत्यंत संतोषयुक्त् समाचार है| इस महत्वपूर्ण कार्यक्रम के आयोजक, ड्यट् चिक्कबल्लापुर जिला के सभी अधिकारी गण विशेषत: प्रशिक्षण की सारी जिम्मेदारी को अपने कंधो पर लेते हुए सफल और सुसूत्र व्यस्था के द्वारा प्रशिक्षण को यशस्वी बनाए हुए ड्यट के प्रवक्ता श्रीमान हरीश जी तथा सृजनात्मक शैली में प्रशिक्षण को सार्थक बनाने के लिए क्रियाशील परिश्रमी संसाधक श्री राजकुमारजी, श्री जनार्धन जी, तथा श्रीमती पद्मावती जी को सभी हिंदी शिक्षक बंधुओं के द्वारा अनंत धन्यवाद समर्पित है|

Batch 2

Agenda

If district has prepared new agenda then it can be shared here

See us at the Workshop


Workshop short report

1st Day
1st.png

2nd Day
दूसरे दिन का रपट वाचन
दिनांक ०१-१२-२०१५ मंगलवार सुबह ०९:३० मिनट को एस.टी.एफ. का दूसरे दिन का कार्यगार प्रारंभ हुआ | कार्यक्रम में डयट् के अधिकारी श्री हरीश जी उपस्थित थे कार्यक्रम आर्.पी श्री गोपी के स्वागत के द्वारा प्रारंभ हुआ |स्वागत कार्यक्रम के बाद श्री राजशेखर जी द्वारा लिब्रे आफिस् में टायिपिंग,एडिटिंग और
सेव एज फाईल के बारे में प्रोजेक्टर में दिखाने का कार्यक्रम हुआ |प्रशिक्षणार्थियों के द्वारा कंप्य़ूटर में प्रातेक्षिक कार्य करवाया गया |११:३० चाय के विराम में सब स्वाधिष्ट चाय पीकर तृप्त हुए पुन: ११:४० को बेसिक आफ कंप्यूटर में फाईल्स आफ फोल्डर स्टोरिंग मानेजिंग फाईल्स आफ् फोल्डर के बारे में विस्तॄत रुप से स्पस्टता देते हुए हाण्ड बूक में मुख्य विषयॊं को लिखाया गया | ०१:४५ को भोजन विराम ०२:१५ से पुन: INTERNET GLOBAL INFORMATION RESOURCE BROUSING, BROWSE NET SEARCH INGINE, BOOKMARK HYPERLINK के बारे में बताते हुए INTERNET का उपयोग कैसे करना है विषय के बारे में
प्रवचन दिए | ०३:०० से ०३:१५ मिनट तक चाय विराम ०३:१५ से पर्सनल डीजिटल लैब्ररी क्रियेटिंग TEXT SOURSE ALLGIMING RESOUSE IN PDF के उपयोग के बारे में प्रस्तुत किए |०४:१५ से L.O. Writter paragraph bold colours .page formatting अक्षरों को बोल्ड करना रेखांकित करना रंग भरना आदि विषयॊं को सरलता तथा सुंदरता से बताया |०५;३० को कार्यशाला समाप्तहुई |

3rd Day
3rd.png

4th Day
चौथे दिन के एस टि एफ् कार्यागार के कार्यक्रमो के विवरण :
30/11/2015 to 4-12-2015
सुबह हमेशा की तरह साढे नौ बजे कार्यागार शुर हुआ | mÉëशिक्षण में सारे ठीक समय पर मोजुद हुए | पहले अवधि में हमारे संपन्मूल व्यक्ति राजशेख़र जी ने ओ.ढी. पी के बारे में जानकारी दी| इसके अंतर्गतslide show के बारे में बताते हुए अनेक विचारों को समझाया और प्रयोगिक रुप में भी सिख़ाया | इसके बाद चाय विराम था | चाय विराम के बाद सब लोग फिर इक्कठे हो गए | slide showको कैसे बनाना और किस तरह से बcचों के सामने अपने ध्वनि के साथ कैसे पेश करना इसके बारे में हम अनेक विचारों को हसिल की | बाद में एक और संपन्मूल व्यक्ति राजकुमार जी ने इंटरनेट के बारे जानकारी देते हुएhyper link और drive के बारे में भी बताया | तब दोपहर होने के नाथे सब भोजन के लिए चले गए | दोपहर ख़ाने के बाद सब ठीक समय पर ज़मा हो गये | राजकुमार जी ने मेल मे label और filter कैसे करना इसके बारे में अcछी तरह से समझाया | बाद में एक भाषा से दूसरी भाषा को कैसे अनुवाद करना सिख़ाया और हम लोग से भी करवाया | इंटरनेट में आनेवाले बूरी विचरो से बcचों को बचाने की तरिका बताया | चाय विराम के बाद मोबैल य्पस याने मोबैल में कौन-कौन सी applications है इसके बारे मे राजकुमार और राजशेख़र जी दोनों मिलकर जानकारी दी | बाद में शेर इट की सहरा लेख़र शिक्षा से संबंधित विषयों को बाँटा | सब लोग अपने मोबैल को कक्षा के अंतर्गत कैसे उपयोग करना इसके बारे में जान लिया और सीख़ लिया | ये सीख़ते सीख़ते समय बीत चुका था, इसलिए साढे पाँच बजे सब लोग अपना अपना रास्ता पकडकर घर जाने के लिए तैयार हो गये |

5th Day
5th Day.png

Batch 3

Agenda

If district has prepared new agenda then it can be shared here

See us at the Workshop


Workshop short report

1st Day
हिंंदी शिक्षकों का मंच कार्यशाला २०१५
स्थान डयट् चिक्कबल्लापुर
पहले दिन का रपट वाचन
दिनांक ०७-१२-२०१५ को डयट् कि ओर से हिंदी विषय शिक्षकों का मंच कार्यशाला का आयोजन किया गया है| इस कार्यशाला में प्रशिक्षण पाने के लिए कुल इक्कत्तीस शिक्षकों को आमंत्रित किया गया | शिक्षकगण आए थे |
हस कार्यशाला को आयोजन किये हुए हमारे प्रशिक्षणार्थियों के नेता श्री हरीश सर जी और कार्यशाला के प्रशिक्षक मित्र श्री राजकुमार जी, श्री गोपी जी और श्री राजशेखर जी ने हमे मार्गदर्शक के रूप में सभी शिक्षकों को स्वागत किया गया है |
इस कार्यशाला में उपस्थित सभी शिक्षकों को श्री गोपी जी ने स्वागत करके कार्यशाला का आरंभ किया | विषय शिक्षक मंच कार्यशाला के प्रथम अवधि में श्री राजकुमार जी ने अपनी कक्षा शुरू की और इस अवधि में कंप्यूटर के बारे में और कंप्यूटर के भागों को छूकर उनके उपयोग और कार्य विधान के बारे में बताया | कंप्यूटर एक ऐसी चीज है कि वह आदेश पाकर सूचनाएँ देनेवाली मशिन है | कंप्यूटर के दो हिस्सा होते है, वे हार्डवेर और साफ्टवेर | हार्डवेर में जो काम करते है उसे साफ्टवेर में हम देख़ सकते है| जिससे कंप्यूटर का काम साफ-सुथरा बनता है |
दोपहर करीब १२.३० बजे को गरम-गरम चाय का विराम मिला, जब गरम चाय का स्वाद हम लेकर फिर कार्यशाला में प्रवेश किया तो राजकुमार जी ने अपना पाठ फिर आगे बढाया और दोपहर सही १.३० बजे को भोजन के लिए बुलावा आया, तब हम स्वाधीष्ट भोजन के लिए सब शिक्षक और शिक्षिकाओं ने चले गये| दोपहर के स्वाधीष्ट् भोजन के बाद हम सब शिक्षकों ने फिर २.१५ बजे को कार्यशाला में एकत्रित हुए | हम सबको श्री राजशेख़र जी ने दोपहर के कार्यशाला में स्वागत करते हुए अपना कार्यवाही शुरू किये | दोपहर ३.०० बजे में श्री राजशेख़र जी ने प्रवचन देते समय अपने राज्य का प्रप्रथम ख़ोज किया गया साईट् कोयर् (koer) के बारे में विस्तृत रूप से हमे जानकारी दी | इसके साथ-साथ (ubuntu) के बारे में कंप्यूटर की जानकारी दिया और हम भी (ubuntu) के बारे में जानकारी प्राप्त किये |

दोपहर ४.०० बजे के बाद श्री राजशेख़र जी ने हर एक शिक्षक और शिक्षिकाओं ने कंप्यूटर में अपना वैयक्तिक अंतर्जाल साईट (gmail) ख़ाता को ख़ोलने के लिए जानकारी दिया गया | उस जानकारी के मुताबिक हर एक शिक्षक और शिक्षिकाओं ने अपना वैयक्तिक अंतर्जाल साईट (gmail) ख़ाता को खोल लिया | दोपहर गरम चाय आया तो हम सब शिक्षकों ने गरम चाय पीकर फिर कमरे में घुसे तो आज के दिन जो शिक्षक कार्यशाला को आए है, उन शिक्षक का आज की हाजिर का आवेदन पत्र को डि एस ई अर टी (DSERT) को कंप्यूटर के जरिए भर्ति करके भेज दिया गया |
आज के जो रपट यह समाप्त है धन्यवाद प्रस्तुत करता श्री नागेंद्र नायक .एस. शिक्षक सर्कारी प्रौढशाला सोमेनहल्ली |
गुडिबन्डा [ता] चिक्कबल्लापुर [जील्ला] शाला डाईस कोड: 29290608705

2nd Day
दूसरे दिन stf कार्यागार् का रपट वाचन
दिनांक: ८-१२-२०१५
दिन का पहले सत्र का प्रारंभ सुबह ठीक ९:३० बजे हुआ |
संसाधक श्री राजशेखर् जी ने शिबिरार्थियों को हिंदी टाइपिंग की जानकारी दी| हिंदी वर्णमाला , बारहख़डी की टाइपिंग सिखाई | इस के बाद श्री गोपी जी ने संयुक्ताक्षर और हर शिबोरार्थि से एक-एक पद्यभाग का टाइपिंग करवाया |
साथ ही साथ श्री राजशेखर जी और श्री गोपी जी ने हम सब को यह भी सिखाया कि नया फोल्डर किस प्रकार से बनाया जाता है| उसके अंदर् फाइल कैसे रखें और रिनेम करना सिखाया आदि सिखाया गया | इस समय हम को प्राक्टिकल करते समय हम से हुए गलतियों का सुधारा गया | इसके बारे में हमारा खूब मार्गदर्शन किया| ११:३० बजे चाय के विराम के बाद लिब्रे आफीस में file saving, text allignment, text editting file email, आदि सिखाया गया | दो पहर १:३० बजे से भॊजन का विराम था|
भोजन के विराम के बाद संसाधक श्री राजकुमार जी ने शिबिरार्थियों को टोलियों में बाँटा और् टोलियों को पठ्य संबधी एक् - एक विषय देकर उनसे संबंधित जानकारी संग्रह करने को कहा गया | सभी शिबिरार्थि अपने लिए विषय से संबंधित संसाधन अंतर्जाल में खोजने लगे और् शिबिरार्थियों को पता नहीं चला कि कब शाम के ५:३० बज गये |

3rd Day
हिंदी शिक्षकों का मंच-२०१५ संसाधक कार्यशाला दिनांक 09-12-2015
तीसरे दिन का रपट वाच
तीसरे दिन के इस कार्यशाला में S.T.F. के अंतर्गत गणकयंत्र द्वारा अंतर्जाल् से संबन्धित कुछ अंश यहाँ प्रस्तुत हैं| राजकुमार और राजशे जी ने जो टोलिया बनाकर गध्य और् पध्य से संब्ंधित चित्र संग्रहण करना, हिंदी भाषा में लिखना, रंग लगाना ,लिखे हुए भाग को जहांँ चाहिए वहाँ कट करके पेस्ट करना आदि के बरे में समझाया | ज़ी.मैल क्रिएट करना सिखवाया | चाय पीकर जी.मेल भेजने का कार्य श्री रजकुमार द्वारा स्क्रीन पर सुचारु रूप पढाया गया |
अपने छात्रों को कक्षा में पढाते समय हमें अनेक तंत्रांश का ज्ञान अनिवार्य है|
इस कार्यशाला में श्री राजकुमारजी ने g.mail भेजने में compose आदि के उपयोग पर प्रकाश डालते हुए सुजाव दिया है कि शिक्षक को विवेकयुक्त हो कर g.mailका उपयोग करना चाहिए | हमें भी यह मानना पडेगा कि जीवन के हर क्षेत्र में अंतर्जाल का बहुत बडा योगदान है|
गुणात्मक शिक्षण के लिए VIDEOS,OER -मुक्तशैक्षणिक संपन्मूल, LSRW के विकास के लिए जरुरी है | इस तरह तीसरे दिन की कार्यशाला अनेक अनजाने अंशों को सिखाने और् सीखने के द्वारा समाप्त हुई |

4th Day
चौथे दिन का रपट वाचन
दिनांक/10/12/2015
आदरणीय संसादक व्यक्ति राजकुमार सरजी, राजशेखर, गोपी और यहाँ पर उपस्थित हिन्दी भाषा के सभी शिक्षक मित्रगण को मेरा शुभोदय | आज मुझे आपके सामने हमारे इस कार्यागार के दिन के रपट वाचन प्रस्तुत करने का अवसर मिला है |
रपट वाचन इस प्रकार है------ हिन्दी विषय से संबधित हिन्दी भाषा के शिक्षक मंच कार्यक्रम में हम सब ९:३० बजे डाइट चिक्कबल्लापुर मे प्रशिक्षण कक्षा में ईक्कट्टे हुए | पहले हम पिछले दिन के पाठ के लिए उचित चित्रों को गूगल की सहायता से डौनलॊड करके पाठ को चित्रों के साथ तैयार किया उसके बाद राजकुमार और गोपी सर् जी ने उबुंटु में गूगल डोट् काम के द्वारा हिंदी विषय पर ज्ञान बढाने के लिए, पाठ के संबधित अधिक जानकरी प्राप्त करने के लिए और छात्रॊं को हिंदी विषय पर आकर्षित करने के लिए किस तरह हिंदी के छॊटे-छॊटे कहानियों को ढूंढना और उस कहानी को किस तरह save करना और पाठ में जोडना इसके बारे में जानकारी दिया | इस कार्य को पूर्ण करने के बाद फीर राजकुमार सर् जी ने इंटरनेट में किस तरह भाषा को अनुवाद करना दुनिया के अधिक सारी भाषाओं को हमारी ईच्छा के अनुसार उसका अर्थ समझने के लिए हमारी मात्र भाषा में किस तरह अनुवाद करना या अन्य भाषा के कहानी या लेखन को किस तरह हम हिंदी भाषा में अनुवाद कर सकतें हैं इसके बारे में जानकारी दिया | इसके बाद गरम-गरम चाय आयी इसको पीकर सब इकट्टे हुए बाद में सर् जी ने गूगल के एक और उपयोग ड्रैव के बारे में जानकारी दिया उसके द्वारा हमारी अत्यावश्यक या उपयोगित चित्रण को पंद्रह जीबी तक संग्रह कर सकते हैं |
और दुनिया के किसी कोने में भी जाकर केवल गूगल के सहायता से अवश्य चित्रण को डौनलोड करके उसको छपा भी सकते है | इसके बाद युटुब के बारे मे जानकारी दिया बाद में गूगल म्याप के द्वारा किस तरह हमारी इच्छित स्थान का विवरण पा सकते हैं इसके बारे में बताया और सर् जी के मार्गदर्शन में हम भोजन विराम के बाद में राजकुमार सर् और गोपी जी दोनो मिलकर अति उपयुक्त और छात्रो को पाठ की ओर आकर्षित करने के लिए गूगल के द्वारा डौनलोड किये गये विडियो को किस तरह हमारी ध्वनि शैली में परिवर्तन करना इसके बारे में जानकारी दिया और सूर-श्यामा कविता के विडियो को सर् जी की ध्वनि में परिवर्तन करके दिखया और हमे भी करने के लिए कहा | बाद में सरल और आकर्षक रूप में किस तरह स्लैड्स् के द्वारा बोधन कर सकते है? उनकी तैयारी, कक्षा वातावरण में उनका उपयोग के बारे में समझाए| इस तरह चौते दिन की कार्यशाला समाप्त हुई |
धन्य्वाद सहित

5th Day
पाँचवे दिन का रपट वाचन
दिनांक: 11-12-2015
स्थान: ड्यट्, चिक्कबल्लापर
हिंदी एस्.टि.एफ. कार्यशाला के पाँचवा दिन की कार्यशाला के क्रिया-कलाप ऎसे थे:-_उपर्युक्त् दिन सभी प्रशिक्षणार्थि शिक्षक अत्यंत उत्साह से कार्यशाला में हाजिर होते ही पूर्व योजना के अनुसार अपने-अपने ppt presenation की तैयारी में मग्न थे | इतने में संसाधक श्री राजशेखर और श्री राजकुमारजी ने ppt presenation में slides का उपयोग, कैसे करना है? अर्थात slide selection, colouring, inserting pictures, background, animation और Hyperlink आदि अंशों पर प्रायोगिक रूप में सविस्तार व स्पष्ट् रूप में जानकारी दी कि सभी शिक्षक अपने-अपने कक्षा बोधन में सफल रूप में तकनीक का सदुपयोग करें | प्रशिक्षणार्थियों को उनके टोलियों के अनुरुप LIBRE OFFICE PPT IMPRESS से पाठ प्रस्तुतीरण करवाया | T-Break के बाद पुन: सभी शिक्षक अपनी प्रस्तुतीकरण की तैयारी में पूर्णत: जिज्ञासा से भाग लिए | इस S.T.F. हिंदी कार्यशाला के द्वारा सभी हिंदी शिक्षक अपने हिंदी ज्ञान के अलावा आज के नव-नवीन युग में पग-पग पर अनिवार्य रूप में उपयुक्त् कप्यूटर ज्ञान और आधुनिक शैक्षणिक पद्दति में दृक-श्रवणोपकरणो का उपयोग परिणामात्मक रूप में कक्षा वातवरण में उपयोग करना सीख लिए है यह अत्यंत संतोषयुक्त् समाचार है | अंत में हम सब ने अपने feedback forum को समर्पित किया इस महत्वपूर्ण कार्यक्रम के आयोजक, ड्यट् चिक्कबल्लापुर जिला के सभी अधिकारी गण विशेषत: प्रशिक्षण की सारी जिम्मेदारी को अपने कंधो पर लेते हुए सफल और सुसूत्र व्यस्था के द्वारा प्रशिक्षण को यशस्वी बनाए हुए ड्यट के प्रवक्ता श्रीमान हरीश जी तथा सृजनात्मक शैली में प्रशिक्षण को सार्थक बनाने के लिए क्रियाशील परिश्रमी संसाधक श्री राजकुमारजी, श्री राजशेखरजी तथा श्री गोपीजी को सभी हिंदी शिक्षक बंधुओं के द्वारा अनंत धन्यवाद समर्पित है|
सधन्यवाद